वजन कम करने, इम्युनिटी बढ़ाने को रोज खाएं अलसी

अलसी (फ्लैक्ससीड्स) छोटे, चपटे और कांसे के रंग के बीज होते हैं, जो एंटीऑक्सीडेंट्स से भरपूर होने के साथ ही हमें हेल्दी फैट्स प्रदान करते हैं। इनमें फाइबर भी पर्याप्त मात्रा में होते हैं। आइए जानते हैं कि अगर हम रोज अपनी डाइट में अलसी के बीज शामिल करें तो उससे हमें क्या फायदे होंगे।

0
257

अलसी (फ्लैक्ससीड्स) छोटे, चपटे और कांसे के रंग के बीज होते हैं, जो एंटीऑक्सीडेंट्स से भरपूर होने के साथ ही हमें हेल्दी फैट्स प्रदान करते हैं। इनमें फाइबर भी पर्याप्त मात्रा में होते हैं। आइए जानते हैं कि अगर हम रोज अपनी डाइट में अलसी के बीज शामिल करें तो उससे हमें क्या फायदे होंगे।

अलसी स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद सर्वाधिक जरूरी चीजों में शामिल है। स्वास्थ्य के प्रति संजीदा लोग अलसी को विभिन्न रूपों में नियमित तौर पर खाते हैं। जीवनशैली से जुड़ी हुई बीमारियों जैसे डायबिटीज आदि में यह बहुत लाभदायक है।

1. वजन घटाने में मददगार

अगर आप वजन घटाने की शुरुआत कर रहे हैं, तो रोजाना अपनी डाइट में अलसी के बीजों को जरूर शामिल करना चाहिए। इसमें पर्याप्त मात्रा में प्रोटीन होता है, जिससे भूख कम लगेगी और आप ओवरइटिंग से बच सकेंगे। ओमेगा-3 फैटी एसिड, फाइबर, प्रोटीन और एंटीऑक्सिडेंट्स मेटाबॉलिज्म को बढ़ाते हैं। बढ़ा हुआ मेटाबॉलिज्म वजन कम करने में मदद करता है।

2. रोग प्रतिरोधक क्षमता

अलसी के बीजों में मौजूद घुलनशील और अघुलनशील फाइबर अच्छे बैक्टीरिया को बढ़ाते हैं। अच्छे यानी गुड बैक्टीरिया शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में कारगर होते हैं। आज के समय में तो अच्छी इम्युनिटी बहुत जरूरी है।

3. शुगर पर नियंत्रण

अलसी के बीजों में फाइबर और प्रोटीन प्रचुर मात्रा में होते हैं, जिससे यह रक्त में ग्लूकोज के स्तर को नियंत्रित करते हैं। सिर्फ बढ़ी हुई शुगर ही नहीं, लो शुगर में भी इसका सेवन फायदेमंद है।

4. दिल के लिए फायदेमंद

दिल के मरीजों के लिए भी अलसी का सेवन रामबाण के समान है। इसमें मौजूद ओमेगा-3 फैटी एसिड कोलेस्ट्रॉल के स्तर को नियंत्रित करता है और खून के थक्के जमने की समस्या पैदा ही नहीं होती।

5. पाचन शक्ति बेहतर होती है

अलसी में पर्याप्त मात्रा में फाइबर होते हैं। ये फाइबर घुलनशील होते हैं, जो पाचनशक्ति को बढ़ाकर कब्ज की समस्या को दूर करतेे हैं। अलसी में मौजूद एक तरह के तेल के कारण भी पाचन तंत्र ठीक तरह से काम करता है। अलसी में मौजूद ओमेगा 3 और 6 फैटी एसिड तनाव के स्तर को कम करने में भी मदद करता है।

अलसी में क्या कितना?

PC: भास्कर

15 ग्राम यानी दो टेबलस्पून अलसी की न्यूट्रीशनल वैल्यू

सेहत के लिए क्यों फायदेमंद हैं अलसी?

जब हम फाइबरयुक्त भोजन करते हैं, तो यह लंबे समय तक हमें पेट के भरे होने का अहसास कराता है, जिससे हम बार-बार खाने से बचते हैं। अलसी भी फाइबर से भरपूर होती हैं। हम जब एंटीऑक्सीडेंट्स युक्त आहार के बारे में सोचते हैं तो फल-सब्जियां दिमाग में आते हैं। लेकिन एंटीऑक्सीडेंट्स से भरपूर 100 सबसे आम खाद्य पदार्थों की सूची में अलसी 9वें नंबर पर है। एंटीऑक्सीडेंट्स हमारी कोशिकाओं को स्वस्थ रखते हैं। इसीलिए विशेषज्ञ इसे फायदेमंद मानते हैं।

अलसी को कैसे करें डाइट में शामिल?

अलसी को भुने हुए बीजों के रूप में या चूर्ण रूप में खा सकते हैं। इसका पाउडर बाजार में मिलता है या घर पर भी बीजों को भूनकर बना सकते हैं। एक चम्मच अलसी के पाउडर को सुबह नाश्ते से पहले लिया जा सकता है। इसे फलों में या सलाद, दही, सूप में मिलाकर खा सकते हैं। आप चाहें तो इसे पानी में घोलकर भी पी सकते हैं। अगर आप अलसी के भुने हुए बीज खाना चाहते हैं तो एक चम्मच पर्याप्त हैं। लड्‌डू में और चटनी के रूप में भी इसका उपयोग होने लगा है।

अलसी में मौजूद एक तरह के तेल के कारण भी पाचन तंत्र ठीक तरह से काम करता है। अलसी में मौजूद ओमेगा 3 और 6 फैटी एसिड तनाव के स्तर को कम करने में भी मदद करता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here