राजीव गांधी को मिला भारत रत्न वापस ले केंद्र, दिल्ली विधानसभा में प्रस्ताव पास

0
203

दिल्ली की केजरीवाल सरकार ने विधानसभा में पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी से देश का सर्वोच्च सम्मान ‘भारत रत्न’ वापस लेने का प्रस्ताव पास किया गया है. आम आदमी पार्टी सरकार का कहना है कि 1984 के सिख विरोधी दंगे के कारण, पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी को दिया गया सर्वोच्च नागरिक सम्मान वापस लिया जाना चाहिए.

आप विधायक जरनैल सिंह ने इस प्रस्ताव को पेश किया जो विधानसभा में ध्वनिमत से पारित हो गया. प्रस्ताव में कहा गया, ‘दिल्ली सरकार को गृह मंत्रालय को कड़े शब्दों में यह लिख कर देना चाहिए कि राष्ट्रीय राजधानी के इतिहास के सर्वाधिक वीभत्स जनसंहार के पीड़ितों के परिवार और उनके अपने न्याय से वंचित हैं.’

सदन ने सरकार को निर्देश दिए कि वह गृह मंत्रालय से कहे कि वह भारत के घरेलू आपराधिक कानूनों में मानवता के खिलाफ अपराध और जनसंहार को खासतौर पर शामिल करने के लिए सभी महत्वपूर्ण और जरूरी कदम उठाए. सिख दंगा मामले में हाल ही में दिल्ली हाईकोर्ट ने पूर्व कांग्रेस सांसद सज्जन कुमार और अन्य को उम्रकैद की सजा सुनाई है.

2019 लोकसभा चुनाव के तहत केंद्र की मोदी सरकार के खिलाफ बन रहे महागठबंधन में सहयोगी के तौर पर देखे जाने वाली आम आदमी पार्टी ने इस प्रस्ताव के साथ ही कांग्रेस के साथ दो-दो हाथ करने का मन बना लिया है. माना जा रहा है कि केजरीवाल सरकार ने सिख समुदाय के वोट बैंक को अपने पाले में करने के लिए यह कदम उठाया है.

बता दें पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्या के बाद उनके बेटे राजीव गांधी ने देश की बागडोर संभाली थी. साल 1991 में उन्हें ‘भारत रत्न’ से सम्मानित किया गया था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here